उत्तराखंड: किसे मिलेगा राज्यसभा का टिकट, उनके नामों पर चर्चा हो रही है

उत्तराखंड: किसे मिलेगा राज्यसभा का टिकट, उनके नामों पर चर्चा हो रही है

देहरादून: चुनाव आयोग ने राज्यसभा की खाली सीटों के लिए अधिसूचना जारी कर दी है। अधिसूचना जारी होने के साथ ही राजनीतिक हलकों में भी चर्चा तेज हो गई है। उत्तराखंड में राज्यसभा की एक सीट खाली हो रही है।

बीजेपी में मंथन शुरू हुआ

उत्तराखंड बीजेपी में इस बात पर मंथन हुआ है कि राज्य की एक सीट से किसे राज्यसभा भेजा जाएगा। राज्यसभा के प्रबल दावेदारों में भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा का नाम शामिल है। लेकिन, भाजपा नेता खुलकर प्रतिक्रिया देने से बच रहे हैं। यहां तक ​​कि नेता भी इस मुद्दे पर बात करने के लिए तैयार नहीं हैं।

विजय बहुगुणा की चर्चा

2016 में, पूर्व सीएम विजय बहुगुणा के नेतृत्व में कैबिनेट मंत्री डॉ। हरक सिंह रावत और सुबोध उनियाल भाजपा में शामिल हुए। कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल ने विजय बहुगुणा का खुलकर समर्थन किया। सुबोध उनियाल ने विजय बहुगुणा को उपयुक्त उम्मीदवार बताया। हालांकि, हरक सिंह रावत इस सवाल से बचते नजर आए। उन्होंने कहा कि यह भाजपा आलाकमान को तय करना है कि उत्तराखंड से किसे राज्यसभा भेजा जाए।

उनकी चर्चा

राज्य से बाहर रहने वाले  और लोगों के नाम भी राज्यसभा के लिए भाजपा के साथ चर्चा मे हैं। इनमें से पहले सुरेश भट्ट हैं, जो वर्तमान में हरियाणा में संगठन मंत्री हैं। शौर्य डोभाल का नाम भी आगे किया जा रहा है। महेंद्र पांडे, जिन्हें हाल ही में राष्ट्रीय कार्यालय का प्रभारी नियुक्त किया गया था, को कई मीडिया रिपोर्टों में एक मजबूत दावेदार के रूप में उद्धृत किया जा रहा है। राज्यसभा की एक सीट के लिए अंतिम निर्णय माननीय बोर्ड को लेना है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और मुख्यमंत्री ने भी मीडिया को इसी तरह के बयान दिए हैं। अब देखना होगा कि किसकी दावेदारी मजबूत होती है और किस पर पार्टी एहसान दिखाती है उधर, कांग्रेस फिलहाल इस मुद्दे पर चुप है। कांग्रेस  मे कोई उम्मीदवार नहीं है। हालाँकि, भाजपा में चर्चा है कि अगर किसी बाहरी व्यक्ति को उम्मीदवार बनाया जाता है, तो कांग्रेस इसे मुद्दा बनाकर इसे भुनाने की कोशिश करेगी। माना जा रहा है कि भाजपा के प्रदेश प्रभारी श्याम जाजू भी राज्यसभा के लिए उम्मीदवारों की कतार में शामिल हो सकते हैं।