उत्तराखंड: कोरोना रिपोर्ट में देरी, हजारों नमूनों का बैकलॉग

21 तारीख को उत्तराखंड के हर विधायक का कोरोना टेस्ट होगा, यही कारण है


देहरादून: सरकार कोरोना की जांच में तेजी लाने के लिए निर्देश जारी कर सकती है, लेकिन ऐसा होता नहीं दिख रहा है। इसकी सबसे बड़ी वजह है देर से आई रिपोर्ट। सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने खुद सैंपल लेने के 24 और 48 घंटे में रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं। हालांकि, रिपोर्ट आने में पांच दिन तक का समय लग रहा है। इसके कारण नमूनों के परीक्षण का बैकलॉग भी लगातार बढ़ रहा है।

सबसे बड़ी बात यह है कि देरी से आई रिपोर्ट के कारण मरीजों का देर से इलाज भी शुरू हो रहा है, जिससे उनकी जान को भी खतरा है। इसके बावजूद जांच में तेजी नहीं लाई जा रही है। राज्य में कोरोना संक्रमण की दर बढ़ रही है। इसे देखते हुए सरकार ने सैंपलिंग बढ़ाई है। हर दिन 12 से 13 हजार मरीजों के सैंपल जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। केवल 10 से 11 हजार मरीज रिपोर्ट किए जाते हैं।

राजकीय प्रयोगशाला पर कोरोना नमूने का दबाव लगातार बढ़ रहा है। हालत यह है कि 14-15 हजार से अधिक नमूनों की जांच होनी बाकी है। इसके कारण लोगों की रिपोर्ट में देरी हो रही है। खासकर दूर-दराज के नमूनों को लैब में लाने में देरी हुई है। इस वजह से लोगों को समय पर रिपोर्ट नहीं मिल पा रही है।

The submit उत्तराखंड: कोरोना रिपोर्ट में हो रही देरी, इतने हजार नमूनों का बैकलॉग appeared first on Khabar Uttarakhand Information