ऋषिकेश: पिता की शहादत पर 9 साल की बेटी पर गर्व, देखिए क्या कहा उसने अपने हाथों से जवानों के सीने में

ऋषिकेश: पिता की शहादत पर 9 साल की बेटी पर गर्व, देखिए क्या कहा उसने अपने हाथों से जवानों के सीने में

previous arrowprevious arrow
next arrownext arrow
PlayPause
Slider

जम्मू-कश्मीर के बारामूला क्षेत्र में नियंत्रण रेखा के किनारे देश की रक्षा करते हुए ऋषिकेश के राकेश डोभाल की मृत्यु हो गई। राकेश डोभाल बीएसएफ में सब इंस्पेक्टर के पद पर थे जो दिवाली पर देश के लिए शहीद हो गए। वहीं, पूर्णानंद घाट पर सैन्य सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई।

बता दें कि सोमवार सुबह eight बजे बीएसएफ सब इंस्पेक्टर राकेश डोभाल का शव जॉलीग्रांट एयरपोर्ट लाया गया था। उसी समय, अंतिम दर्शन गंगा नगर गणेश विहार में उनके निवास पर रखा गया था। शहीद के घर में अराजकता थी। पड़ोस के लोग शहीद के परिवार के सदस्यों को दफनाने के लिए आए थे। जैसे ही शहीद का पार्थिव शरीर घर पहुंचा, परिवार के सदस्यों का रो-रो कर बुरा हाल था। शहीद बेटे का शव देखकर मां विमला देवी और पत्नी संतोषी बेहोश हो गईं। शहीद राकेश डोभाल की 10 साल की बेटी दित्या ने पिता के शव को देखा और पिता को सलाम करने के लिए जय हिंद का नारा बुलंद किया। शेहदी की बेटी के चेहरे पर गर्व और गुस्सा दोनों थे।

पूर्णानंद घाट मुनिकीरेती में शहीद का अंतिम संस्कार किया गया। बीएसएफ के जवानों ने शहीद राकेश डोभाल को सैन्य सम्मान और शस्त्र सलामी दी। गंगा घाट पर शहीद के छोटे भाई मयंक डोभाल ने शहीद राकेश डोभाल का अंतिम संस्कार किया।

The submit हृषिकेश: 9 साल की बेटी पर गर्व

previous arrow
next arrow
Slider

previous arrow
next arrow
PlayPause
Slider