त्रिवेंद्र सरकार का बड़ा फैसला: अब कोरोना का इलाज घर पर होगा, यह गाइडलाइन है

त्रिवेंद्र सरकार का बड़ा फैसला: अब कोरोना का इलाज घर पर होगा, यह गाइडलाइन है


देहरादून: मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शनिवार को जहां आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को तोहफा दिया, वहीं सीएम ने उत्तराखंड में गृह-अलगाव के लिए निर्देश पुस्तिका भी जारी की। उन्होंने कहा कि डॉक्टर की टीम की जांच और मानकों के अनुसार घर-अलगाव की व्यवस्था की जानी चाहिए। घर-अलगाव के बजाय अस्पतालों और कोविद देखभाल केंद्रों को प्राथमिकता दी जानी चाहिए। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि कोरोना का नमूना परीक्षण आगे बढ़ाया जाना चाहिए। बता दें कि उत्तराखंड में कोरोना के मरीजों का डेटा बढ़ रहा है। उत्तराखंड में कोरोना रोगियों की संख्या 8900 के पार हो गई है। एक ही समय में 112 की मौत हो गई है।

सीएम के आदेश के अनुसार, अब, कोरोना के मरीज़ अपने घर में रहकर ही अपना इलाज करवा सकते हैं कि घर में होम आइसोलेशन की सुविधा हो। इस व्यवस्था के तहत कोरोना के मरीजों को अपने घर पर इलाज कराने के लिए अस्पताल नहीं जाना पड़ेगा। इसके लिए सरकार द्वारा दिशा-निर्देश निर्धारित किए गए हैं। दिशानिर्देशों के अनुसार, अगर कोरोना रोगी घर के अलगाव में रहना चाहता है, तो उन्हें इसे स्वास्थ्य विभाग को देना होगा, जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम घर का निरीक्षण करेगी और घर के अलगाव की व्यवस्था और कोरोना रोगी का जायजा लेगी। यदि सुविधाएं मिलें तो घर को पृथक करने की अनुमति देगा। इसके लिए डॉक्टर उनके संपर्क में रहेंगे और चेकअप के लिए आते रहेंगे।