देहरादून: 26 साल बाद पुलिस को चकमा देकर फरार आरोपी, सीआईडी ​​ने किया कड़ा रुख

देहरादून: 26 साल बाद पुलिस को चकमा देकर फरार आरोपी, सीआईडी ​​ने किया कड़ा रुख


देहरादून: 26 साल बाद पुलिस ने उस अपराधी को गिरफ्तार किया है जो पुलिस को चकमा देकर फरार था। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के निजी सचिव की फर्जी सिफारिश पर पुलिस स्टेशन में शस्त्र लाइसेंस बनाने का मामला दर्ज किया गया था। रिवाल्वर की सिफारिश के लिए अारोपी शांति स्वरूप तिवारी ने पूर्व सीएम के सचिव का फर्जी पत्र डीएम कार्यालय में जमा कराया। मामला 26 साल पुराना है। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के निजी सचिव के फर्जी प्रमाणपत्र के मामले में एक अपराधी फरार हो गया था। पुलिस और एसओजी की टीम ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए अपराधी को पलवल हरियाणा से गिरफ्तार किया है।

पुलिस को मिली जानकारी के अनुसार, 1994 में डॉ। शांति स्वरूप तिवारी ने रिवॉल्वर के लाइसेंस के लिए आवेदन किया था, जिसमें आवेदक ने पूर्व सीएम नारायण दत्त तिवारी के निजी सचिव का फर्जी सिफारिश पत्र संलग्न किया था। जो जांच में फर्जी पाया गया। इसकी जांच CID लखनऊ ने की थी और वर्ष 2012 में इस अपराधी को भी अपराधी घोषित किया गया था। जिसे पुलिस ने 26 साल बाद हरियाणा से गिरफ्तार किया है।

The publish देहरादून: पुलिस को चकमा देकर 26 साल बाद फरार आरोपी, CID ने शिकंजा कस दिया था पहली बार सामने आई ख़बर उत्तराखंड न्यूज़