बीजेपीवादियों ने सोशल डिस्टेंसिंग का मजाक उड़ाया, सीएम त्रिवेंद्र भी नहीं माने

बीजेपीवादियों ने सोशल डिस्टेंसिंग का मजाक उड़ाया, सीएम त्रिवेंद्र भी नहीं माने


सरकार के लाख कहने, समझाने, पोस्टर लगाने और जुर्माना लगाने के बावजूद, कई लोग सामाजिक भेद के नियमों को अपनाने के लिए तैयार नहीं हैं। अब गुरुवार को बीजेपी महानगर के कार्यालय में देखे गए नजारे को देखिए। यहां भाजपाियों ने ऐसा रवैया अपनाया जैसे कि सामाजिक भेद का नाम कभी नहीं सुना गया हो और अगर सुना जाए तो इसकी कोई जरूरत नहीं है। यही नहीं, फोटो खिंचवाने के शौकीनों ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के साथ फ्रेम करवाने की चाह में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को भी खतरे में डाल दिया। एकदम से चिपके हुए।

तस्वीरों में देखा जा सकता है कि कैसे बीजेपी नेताओं ने सामाजिक भेद-भाव के नियमों का मज़ाक उड़ाया

दरअसल, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत देहरादून भाजपा महानगर कार्यालय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने के लिए गुरुद्वारा पहुंचे थे। इस दौरान उन्हें फीता काटना था। फीता काटते समय, भाजपा ने भी सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत से दो गज की दूरी बनाए रखना उचित नहीं समझा और करीब से खड़े हो गए। यहां तक ​​कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बंसीधर भगत, जो हाल ही में कोरोना से बरामद हुए, ने दूरी बनाए रखना उचित नहीं समझा। राज्य के सहकारिता और उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत भी अपने ही नेताओं से घिरे थे।

इस कार्यक्रम के दौरान सीएम ने पीएम नरेंद्र मोदी पर आधारित एक पुस्तक का विमोचन भी किया। सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पीएम मोदी के स्वस्थ और लंबे जीवन की कामना की। सीएम त्रिवेंद्र ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में, देश ने दुनिया भर में ख्याति प्राप्त की। सीएम त्रिवेंद्र ने कहा कि कोविद -19 के दौरान, कार्यकर्ताओं और स्वयंसेवी संगठनों ने भी लोगों का समर्थन किया है। कोविद को रोकने का सबसे अच्छा तरीका शारीरिक दूरी और मुखौटा का उपयोग करना है। राज्य में कोविद का परीक्षण बढ़ा दिया गया है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि राज्य में भाजपा सरकार के साढ़े तीन साल पूरे हो रहे हैं। इन तीन वर्षों में, हम जनता से किए गए वादों को पूरा करने की कोशिश कर रहे हैं। राज्य सरकार पर इस दौरान किसी भी भ्रष्टाचार का आरोप नहीं लगा है।

भाजपा नेताओं ने सामाजिक गड़बड़ी का मज़ाक उड़ाया, सीएम त्रिवेंद्र ने भी नहीं माना पहली बार ख़बर उत्तराखंड न्यूज़ पर।