भारत ने जम्मू के नगरोटा मुठभेड़ के संबंध में विरोध दर्ज कराने के लिए पाकिस्तान उच्चायोग के कार्यवाहक राजदूत को तलब किया

भारत ने जम्मू के नगरोटा मुठभेड़ के संबंध में विरोध दर्ज कराने के लिए पाकिस्तान उच्चायोग के कार्यवाहक राजदूत को तलब किया

भारत ने जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी हमले की योजना बनाने वाले जैश-ए-मोहम्मद के मामले में पाकिस्तान के साथ एक मजबूत विरोध दर्ज कराया है। विदेश मंत्रालय ने इस संबंध में नई दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग के कार्यवाहक राजदूत को तलब किया। पाकिस्तानी अधिकारी को इस महीने की 19 तारीख को जम्मू के नगरोटा में जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर टोल प्लाजा के पास मुठभेड़ के सिलसिले में बुलाया गया है। इस मुठभेड़ में चार जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी मारे गए।

भारत ने पाकिस्तान से आतंकवादियों और आतंकवादी समूहों को समर्थन देने की अपनी नीति को छोड़ने के लिए कहा है। विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान को अपनी जमीन से आतंकवादी ढांचे को ध्वस्त करने के लिए भी कहा है। पाकिस्तान को इस मामले में दुनिया से किए गए अपने वादे को निभाने और यह सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है कि यहां से कोई आतंकवादी गतिविधि न हो।

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि भारत आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए सभी आवश्यक एहतियाती कदम उठाने के लिए प्रतिबद्ध है।