ये कैसी इमरजेंसी, किसानो के समर्थन में उतरने पर केजरीवाल को किसके इशारों पर नज़रबंद किया:आप

रूडकी:- आज आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता एडवोकेट महक सिंह सैनी ने ब्याकन जक़्क़री कर कहा कि आज पुरे देश में किसान उनके उपर थोपे गए काले किसान बिलों को लेकर सड़कों पर आंदोलनरत हैं और इन बिलों को वापिस लेने के लिए सरकार से कई दौर की वार्ता के बाद भी जब सरकार ने इनकी मांगो पर कोई सकारात्मक पहल नहीं दिखाई तो मजबूरन किसानो को विरोध स्वरुप आज भारत बंद करना पड़ा जिसके लिए कई संगठन उनके इस आन्दोलन में उतर कर उनको समर्थन देने लगे।
कल जब दिल्ली के मुख्यमन्त्री अरविन्द केजरीवाल जी सिन्धु बॉर्डर पर किसानों से मिलने गए, तब से ही केंद्र की बीजेपी सरकार उनके पीछे पड़ गयी है ,इससे पहले भी केंद्र की उस मंशा पर भी अरविन्द केजरीवाल ने मना करके, दिल्ली के स्टेडियम को जेल बनने से रोका था। तब से ही बीजेपी की पुलिस ने केजरीवाल के घर को ही जेल बना दिया। उनके सिन्धु बॉर्डर से वापिस आते ही गृहमंत्री अमित शाह के इशारों पर दिल्ली पुलिस और बीजेपी के कार्यकर्ता उनके घरों के बाहर हैं। उनके घर के बाहर बेरिकेडिंग लगा उनको पूरी तरह हाउस अरेस्ट कर दिया, अब उनका न किसी से मिलना हो पा रहा और न ही वो बाहर निकल पा रहे हैं।
हम पूछना चाहते हैं कि ये देश में कौन सी इमरजेंसी लगी है जिसके बारे में लोगों को पता नहीं है या सरकार तानाशाही पर उतर आई है । इस लोकतांत्रिक देश में आप एक चुने हुए मुख्यमंत्री को घर के बाहर क्यों नहीं निकलने दे रहे हैं। उनको क्यूँ हाउस अरेस्ट किया गया ? सरकार ये बताये ?
आप प्रवक्ता ने कहा कि केंद्र सरकार ये सोच ले कि कितना भी प्रचंड बहुमत आपके पास हो ,कितना भी आप तानाशाही पर उतर जाओ ,कितना भी किसानो पर आप काले बिल थोपो , लेकिन ये जनता जानती है। आप कितना भी प्रयास कर लो, ना आप, किसानो की आवाज़ को दबा पाओगे, और ना ही अरविन्द केजरीवाल की आवाज़ को दबा पाओगे। जनपद हरिद्वार में भी आप कार्यकर्ताओ द्वारा बन्द का समर्थन करते हुए प्रदर्शन किया गया है।