अंग्रेजी बोलने वाली हँसी हँसते हुए विधानसभा चुनावों में लड़ी गईं, अब भीख मांगते हुए बेटी ने 97% अंक लाए, मदद बढ़ी

अंग्रेजी बोलने वाली हँसी हँसते हुए विधानसभा चुनावों में लड़ी गईं, अब भीख मांगते हुए बेटी ने 97% अंक लाए, मदद बढ़ी


हरिद्वार: हरिद्वार सहित पूरे उत्तराखंड में एक नाम चर्चा में है, वह हैं हंस देवी, जो कुमाऊं विश्वविद्यालय के उपाध्यक्ष थे। उन्होंने 2002 में विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा। इतना ही नहीं, उन्होंने डबल एमए किया। वह धाराप्रवाह अंग्रेजी बोलती है। नाम है लाफ्टर सेंटिनल जो इन दिनों हरिद्वार में अपने बेटे के साथ भीख मांगते हुए देखा गया था। जब मीडिया ने हँसी पर ध्यान दिया, तो हँसी की दर्दनाक स्थिति सामने आई। लाफ्टर का कहना है कि उन्होंने सीएम सहित कई अधिकारियों को पत्र लिखे और मदद मांगी लेकिन स्थिति जस की तस है। आपको बता दें कि लाफ्टर अपने 6 साल के बेटे के साथ भीख मांग रहा है। मीडिया ने उस हँसी को देखा, जो बेटे को एक धाराप्रवाह अंग्रेजी सिखा रही थी।

साथ ही मीडिया की मेहनत पर पानी फेर दिया है। आपको बता दें कि उत्तराखंड की खबरों ने भी सरकार और समाज को पिछले दिनों हंसी के हालात की जानकारी दी थी। वहीं, हंसी की मदद के लिए हरिद्वार के कई जिम्मेदार लोग और सामाजिक संगठन आगे आए हैं। इनमें केआरएल समन्वयक सुखबीर सिंह, पंडित नारायण दत्त तिवारी नेहरू युवा केंद्र, होटल व्यवसायी और सामाजिक कार्यकर्ता मिंटू पंजवानी, जगदीश लाल पाहवा, विशाल गर्ग, आदि शामिल हैं।

हाईस्कूल में बेटी ने लाए 97 प्रतिशत अंक

हँसी बताती है कि उसके दो बच्चे हैं। वह एक बेटे के साथ भिखारी है और उसकी एक बेटी है जो नानी के साथ रहती है। पिछले साल हाईस्कूल में बेटी ने 97 प्रतिशत अंक हासिल किए थे। हँसी ने कहा कि वह अल्मोड़ा जिले के सोमेश्वर के रंकशीला गाँव से है। आपको बता दें कि 2002 के विधानसभा चुनावों में सोमेश्वर सीट से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में लाफिंग गार्ड भी लड़ा गया था। तब कांग्रेस के प्रदीप टम्टा और भाजपा के राजेश कुमार सहित 11 उम्मीदवार 53689 मतदाताओं के साथ इस सीट के लिए मैदान में थे।

2000 में कुमाऊँ विश्वविद्यालय में उपाध्यक्ष थे

हांसी देवी ने वर्ष 2000 में कुमाऊं विश्वविद्यालय से उपाध्यक्ष का चुनाव लड़ा और जीत भी हासिल की। साथ ही उसके हालात ऐसे हैं कि वह रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड के लिए भी कह रही है। लेकिन अब हाथ हंसी की मदद करने लगे हैं। LIU अधिकारियों से लेकर कई सामाजिक संगठनों के लोग उनसे मिलने आए। एक ने पांच हजार रुपये दिए। अब सूचना मिली है कि उसे जल्द ही घर मिल जाएगा।

The publish, विधानसभा चुनाव में अंग्रेजी बोलने वाली हँसी लड़ी गई, अब भीख मांगते हुए, बेटी ने 97% अंक लाए, मदद बढ़ी पहली बार ख़बर उत्तराखंड न्यूज़ पर।