उत्तराखंड: कोरोनिल पर बाबा रामदेव की सफाई, कहा ड्रग माफिया हिल गया है जानिए बाकी

उत्तराखंड: कोरोनिल पर बाबा रामदेव की सफाई, कहा ड्रग माफिया की नश्वरताएं हिल गईं, जानिए बाकी

हरिद्वार : कोरोना दवा बनाने के बाबा रामदेव के दावे के बाद, उनसे लगातार पूछताछ की जा रही है। बाबा रामदेव ने कहा कि आयुर्वेद के दुश्मन नहीं चाहते कि आयुर्वेद आगे बढ़े। उन्होंने कहा कि हमने लोगों को योग और आयुर्वेद से स्वस्थ रहना सिखाया है, फिर भी सवाल उठाए जा रहे हैं। बाबा रामदेव ने दावा किया है कि आयुष मंत्रालय ने कहा है कि पतंजलि ने कोविद के क्षेत्र में एक अच्छी पहल की है। बाबा रामदेव ने कहा कि इसके कारण विरोधियों की योजनाओं पर पानी फिर गया है। विरोधियों को कुछ भी समझ में नहीं आ रहा है। सोशल मीडिया में उनके बारे में कई तरह की बातें फैलाई जा रही हैं।

बाबा रामदेव ने कहा है कि हमने कोविद प्रबंधन पर अब तक जो काम किया है, वह आगे भी जारी रहेगा। कोरोनिल को कोरोनिल के लिए गिलोय, अश्वगंधा तुलसी की एक सुनिश्चित मात्रा लेकर तैयार किया गया है। ब्रेस्ट वटी को दालचीनी और अन्य से तैयार किया गया है। उन्होंने कहा कि लोग सोशल मीडिया पर भी फैल गए हैं कि बाबा सात दिनों में जेल जाएंगे। जाति और धर्म के संबंध में टिप्पणियाँ भी की गईं।

बाबा ने कहा कि हमने कोरोनिल मेडिसिन से संबंधित पूरा शोध आयुष मंत्रालय को दिया था, जिसे कोई भी देखना चाहता है वह देख सकता है। उन्होंने कहा कि जो दवा उन्होंने कोरोनिल नाम से बनाई थी। इससे कोरोना के मरीज ठीक हो गए हैं। उनकी सेहत में सुधार हुआ है। साथ ही कहा कि उनकी शोध टीम कई अन्य गंभीर बीमारियों के लिए दवा बनाने पर भी शोध कर रही है। कुछ परीक्षण हुए हैं। बहुत अच्छे परिणाम आ रहे हैं। इससे ड्रग माफिया हिल गया है। वे नहीं चाहते कि कोई बाबा और तपस्वी शोध करे।